स वर्षों के अथक प्रयास, चिंतन औरकई राज्यों के भ्रमण के बाद सांसद,रवींद्र किशोर सिन्हा, अपनी सोच को धरातल पर ले ही आये। लेखक, पत्रकार,सिन्हा, दशकों से चिंतित थे कि देश की करोड़ों,जिंदगियां, यूरिया, फास्फोरस, नाइट्रेट औरअमोनिया के उपयोग से कैंसर, शुगर, हाइरटेंशन,लकवा आदि कई घातक बीमारियों से बर्बाद हो रही हैं। आरके सिन्हा, इसे भांपते हुए वर्षों से दूधका और दूध के प्रयोग से बने पदार्थों का उपयोग बंद कर दिया। उन्होंने अपनी हर सभा सम्मेलन में लोगों को जागरूक किया और बताया जो हम दूध पीते हैं वह लाभदायक से ज्यादा हानिकारक है।उन्होंने देशी गाय, इनमें गिर और साहिवाल को बड़ी संख्या में इकठ्ठा करना शुरू किया, और उससे बने एटू दूध और घी पर जोर देते हुए आद्यामिल्क एंड प्रोडक्ट, नामक संस्था बनायी। इससंस्था से आईआईटियन समीर कुमार और पल्लवी को जोड़ा। आम दूध बाजार में 40, 45, रुपये लीटर मिलता है। लेकिन शुद्ध देशी गाय का जैविकदूध सैकड़ों रुपये लीटर बेचा जा रहा है। इस उद्देश्य से 19 जनवरी 2019 को बिहार की सोननदी के बहियारा में स्वर्गीय सूर्य प्रसाद के विशाल प्रांगण में शाहाबाद, भोजपुर, के किसानों का एक सम्मेलन किया। सांसद, रवींद्र किशोर सिन्हा नेअपने संबोधन में बताया कि यूरिया, नाइट्रेट,फास्फोरस, अमोनिया के प्रयोग से न केवल खेतों की उर्वरा शक्ति घट रही है बल्कि इससे बीमारियां भी बढ़ रही हैं। जो भविष्य के लिए चिंता का विषय है।

यूरिया, नाइट्रेट, फास्फोरस,
अमोनिया के उपयोग से न
केवल खेतों की उर्वरा शक्ति घट
रही है बल्कि इससे बीमारियां भी
बढ़ रही हैं। जो भविष्य के लिए
चिंता का विषय है।

इस अवसर पर महाराष्ट्र से आये कृषि वैज्ञानिक दीपक बालू, ने कहा कि अगर जल्द किसानों ने अपने खेतों में रासायनिक खादों का उपयोग नहीं बन्द किया तो, उनके खेतों की उर्वरा शक्ति खत्म होजाएगी। सिन्हा अपने देहरादून के विशाल फार्म हाउसमें सैकड़ों गिर, सहिवाल और दूसरी देशी गायों को पाल रखा है। देश में इनके एक-एक किलोग्राम घी,जिनकी कीमत तकरीबन दो हजार प्रति किलोग्रामहै। इसकी मांग इतनी अधिक है कि तीन-तीन महीनोंतक के लिए क्रेता को इंतजार करना पड़ रहा है।क्योंकि आद्या मिल्क संस्थान अकेला ऐसा संस्थान है जो एटू घी और दूध की आपूर्ति कर रहा है। इसके मुख्य कार्यकारी टेक्नोक्रेट समीर कुमार का कहनाहै कि एटू की मांग इतनी अधिक है कि पूर्ति नहीं हो पा रही है। इसके एमडी पल्लवी का मानना हैकि अभी तो हम लोग आॅनलाइन आपूर्ति कर रहे हैं, जल्द ही राज्यो में भी सीधे आपूर्ति की जाएगी।इन दिनों अन्य सामाजिक कार्यो के अलावासांसद सिन्हा, बड़े जोर शोर से बहियारा में सैकड़ों गिर और सहिवाल गयों को इकट्ठा किया है। यहखबर पूरे बिहार में तेजी से फैल रही है। चर्चा है किगाय प्रेमी नीतीश जल्द ही बहियारा का दौरा करनेवाले हैं। सूर्यप्रकाश प्रांगण में आयोजित कार्यक्रममें पूर्व मंत्री राघवेंन्द्र सिंह, ने कहा कि सिन्हाजी का यह प्रयास देश में एक नई क्रांति लाएगा।वैज्ञानिक पी के द्विवेदी, मिथिलेश कुशवाहा, सुरेशसिंह किसान नेता ने कहा कि अब आने वालेदिनों में किसान रासायनिक उर्वरकों के उपयोगसे किनारा करेंगे। इस अवसर पर सुप्रीम कोर्ट केवरिष्ठ अधिवक्ता और आद्या मिल्क के निदेशक श्रीमती रीता किशोर भी उपस्थित थीं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here