मूमन हर राजनीतिज्ञ खुद को समाजसेवी बताता है। इनमें से भी ज्यादातर पूर्णकालिक राजनीति में आनेके बाद टिकट और कुर्सी की जोड़तोड़ में लग जाते हैं और समाजसेवा सिर्फ उनके बायोडेटा का हिस्साबनकर रह जाता है। लेकिन कई राजनीतिज्ञ ऐसे भी हैं, जिन्होंने समाजसेवा के लिए जीवन समर्पित करदिया। हम बात कर रहे हैं पूर्व केंद्रीय मंत्री और कर्नाटक में जमाखांडी के विधायक रह चुके सिद्दू न्यामागौड़ा की, जिनका28 मई को ही एक सड़क हादसे में निधन हुआ है।

राज्य में बैरेज सिद्दू के नाम से प्रसिद्ध सिद्दू न्यामागौड़ा ने अपना पूरा जीवन किसानों के उत्थान और जल संरक्षण के नामकर दिया था। एक मामूली किसान के रूप में अपना जीवन शुरू करने वाले सिद्दू ने अपने दम पर कृष्णा नदी परचिकपदसालगी बांध का निर्माण करवाया। उत्तर कर्नाटक के सूखा प्रभावित क्षेत्र में किसानों को राहत पहुंचाने के लिएआजादी के बाद से ही कृष्णा नदी पर बांध बनाने की मांग की जा रही थी। अस्सी के दशक में तत्कालीन मुख्यमंत्रीरामकृष्ण हेगड़े ने किसानों की मांग पर कहा था कि स्थानीय किसान यदि बांध की कुल लागत में 25 फीसदी कायोगदान करें तो राज्य सरकार बांध बनवा देगी। सिद्दू ने अपने संगठन की मदद से तीस गांवों के किसानों को एकजुट करलगभग एक करोड़ रुपये का इंतजाम भी कर लिया, लेकिन राजनीतिक वजहों से राज्य सरकार ने बांध बनाने का इरादात्याग दिया।

नेता तो कई लोग होते हैं, लेकिन इनमें से कुछ ही ऐसे होते हैं, जिनका काम लोगों को हमेशा उनकी याद दिलाता है। सिद्दू न्यामागौड़ा ऐसे ही शख्स थे, जिन्होंने बिना सरकारी सहायता के किसानों की मदद से ही कृष्णा नदी पर बांध बना दिया।

राज्य सरकार की ओर से निराशा मिलने के बाद सिद्दू खुद अपने किसान साथियों के साथ बांध बनाने के काम में जुटगये। स्थानीय युवा इंजीनियरों ने बिना फीस लिये ही बांध का डिजाइन तैयार किया और तकनीकी सलाह दी। वहींकिसानों ने मजदूरों की जगह खुद काम करना शुरू कर दिया। कई किसानों ने पैसे का इंतजाम करने के लिए घर में रखेगहनों तक को गिरवी रख दिया। कृष्णा नदी के दोनों ओर के गांवों के किसान रोज अपने घर से खाना लाते और खुद बांधबनाने के काम में जुट जाते। जो पैसे जुटाये गये थे, उनसे ईंट, सीमेंट, बालू, सरिया आदि की खरीद की जाती थी।सरकार की उपेक्षा के बावजूद निर्माण कार्य चलता रहा और एक साल में इस बांध का निर्माण हो गया।

देश का यह पहला ऐसा बांध था, जिसका निर्माण बिना किसी सरकारी मदद के किया गया था। बांध बनाने के बाद सिद्दूदेखते ही देखते पूरे देश में प्रसिद्ध हो गए, उनकी इसी प्रसिद्धि को देखते हुए 1991 में तत्कालीन मुख्यमंत्री एस बंगरप्पाने उन्हें कांग्रेस के टिकट पर लोकसभा चुनाव लड़ने का न्योता दिया। बंगरप्पा ने सिद्दू के लिए बागलकोट सीट का चयनकिया था, जहां से जनता पार्टी के राष्ट्रीय स्तर के नेता और कर्नाटक के दो बार मुख्यमंत्री रह चुके रामकृष्ण हेगड़े चुनावलड़ रहे थे। माना जा रहा था कि राजनीति से पूरी तरह से अनजान व्यक्ति को टिकट देकर कांग्रेस ने रामकृष्ण हेगड़े कोवाकओवर दे दिया है। लेकिन, सिद्दू ने रामकृष्ण हेगड़े को चुनावी मुकाबले में चित कर दिया।

संभवत: इसी कारण कांग्रेस आलाकमान की नजर भी उन पर पड़ी और पीवी नरसिंह राव सरकार में कोयला मंत्रालय मेंउपमंत्री के तौर पर उनका चयन कर लिया। कहते हैं कि जब राष्ट्रपति भवन में शपथ ग्रहण समारोह चल रहा था, तबपहली बार सांसद बने सिद्दू कर्नाटक भवन में बैठकर उत्सुकता के साथ टीवी पर इस कार्यक्रम को देख रहे थे। वे उससमय चौंके, जब उप मंत्री के रूप में शपथ लेने के लिए उनका नाम पुकारा गया। लेकिन उनके लिए तब शपथ ग्रहणसमारोह में पहुंच पाना संभव नहीं था। लिहाजा सिद्दू को बाद में पद की शपथ दिलाई गई।

उनकी राजनीतिक पारी आगे भी जारी रही और जमाखंडी विधानसभा सीट से वह लगातार दो बार विधायक चुने गये। इसबार मंत्रिमंडल विस्तार के पहले वे पार्टी आलाकमान के बुलावे पर दिल्ली गये थे और वहां से वापसी के वक्त ही कारएक्सीडेंट में उनका निधन हो गया। सिद्दू न्यामागौड़ा भले ही कांग्रेस से जुड़े थे, लेकिन उनका सम्मान हर राजनीतिकविचारधारा वाले लोग करते थे। किसानों की दशा सुधारने और जल संरक्षण के लिए उन्होंने जो काम किया था, उससेउनके क्षेत्र के हर किसान के जीवन में खुशहाली आई थी। आज सिद्दू इस दुनिया में नहीं हैं, लेकिन उनके द्वारा बनायागया चिकपदसालगी बांध स्थानीय लोगों के मन में उनकी याद को जीवित रखेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here