साल 2018 के आखिरी दिनों में आयी सुपरस्टार शाहरुख खान की फिल्म ‘जीरो’ बॉक्स आॅफिस पर औंधे मुंह गिरी है। आनंद एल. राय द्वारा निर्देशित यह फिल्म 21 दिसंबर को सिनेमाघरों में आयी थी और पहले दो दिनों की अच्छी शुरुआत के बावजूद पहले हते की उसकी कुल कमाई 85 करोड़ से भी कम है। यह उम्मीद कम ही है कि साल खत्म होते यह सौ करोड़ का आंकड़ा छू सकेगी। इसमें कोई दो राय नहीं है कि निर्देशक आनंद प्रेम कहानियों को बहुत असरदार तरीके से पेश करने का हुनर रखते हैं और शाहरुख खान को तो ‘किंग आॅफ रोमांस’ कहा ही जाता है। अनुष्का शर्मा और कैटरीना कैफ भी अभिनेत्रियों की अगली कतार में शुमार हैं। बौना नायक और विकलांग नायिका के साथ लोकप्रिय अभिनेत्री के किरदार को रखकर ‘जीरो’ जैसी फिल्म बनाना सिनेमाई और कारोबारी लिहाज से साहस का काम है। ‘जीरो’ बनाकर एक मील का पत्थर तो गाड़ ही दिया गया है। लेकिन ‘ठग्स आॅफ हिंदोस्तान’ की असफलता के तुरंत बाद ‘जीरो’ जैसी महत्वाकांक्षी और बड़े स्टारों की फिल्म का अपेक्षा से बहुत कम कारोबार करना सिनेमा जगत के लिए निराशाजनक खबर है। आमतौर पर चलन यही रहा है कि छुट्टियों और त्योहारों के मौसम में फिल्में अच्छा कारोबार करती हैं। इसी कारण सुपरस्टारों की फिल्में ऐसे मौकों पर रिलीज की जाती हैं। लेकिन दीवाली पर अमिताभ बच्चन और आमिर खान जैसे अदाकारों की ठगी नहीं चली, तो क्रिसमस पर शाहरुख खान के खाते में जीरो हासिल रहा। लेकिन इस शुक्रवार को रिलीज हुई ‘सिंबा’ से बढि़या कमाई की उम्मीदें हैं। इसका दूसरा पहलू यह भी है कि ‘सिंबा’ की बढ़त ‘जीरो’ की रहीसही आशा पर भी पानी फेर सकती है। रोहित शेट्टी एक्शन, थ्रिलर और कॉमेडी से लबरेज हल्कीफुल्की कहानी कहने तथा भारी सफलता हासिल करने वाले निर्देशक हैं। उनकी ‘सिंबा’ में भी उनके स्टाइल की भरपूर खुराक है। रणवीर सिंह और सारा अली खान ने अपनी भूमिकाएं निभाने में कोई कसर बाकी नहीं रखी है।

बड़े नायकत्व वाली ‘ठग्स आॅफ हिंदोस्तान’ और ‘जीरो’ को दर्शकों द्वारा नाकारे जाने के बाद अब सबकी उम्मीदें ‘सिंबा’ से हैं। ‘सिंबा’ विशुद्ध रूप से मनोरंजन से भरपूर फिल्म है।

सारा सुपरस्टार सैफ अली खान और बीते दौर की बड़ी अदाकारा अमृता सिंह की बेटी हैं। कुछ समय पहले रिलीज हुई उनकी पहली फिल्म ‘केदारनाथ’ ने भले हीबड़ी कमाई न की हो, पर लोगों को उनका काम पसंद आया है। ऐसे में दर्शकों को उनसे उम्मीदें भी अधिक हैं, लेकिन पिछली फिल्म की सराहना और नया होने का फायदा भी उन्हें हो सकता है। अभिनेत्री दीपिका पादुकोण से शादी के बाद परदे पर आने वाली रणवीर सिंह की यह पहली फिल्म है। यह शादी और शादी के बाद यह जोड़ा जिस तरह से सुर्खियों में छाया हुआ है, इससे ‘सिंबा’ के प्रचार का दायरा बहुत बढ़ गया है। कहने का मतलब यह है कि शुरूआती चार दिनों तक दर्शकों को सिनेमाघरों में खींचने के लिए रोहित शेट्टी, रणवीर सिंह और सारा अली की तिकड़ी काफी है। इतने समय में सौ करोड़ तो कमाया ही जा सकता है। पहले दो दिन मीडिया और दर्शकों की समीक्षाएं भी सकारात्मक हैं। ‘सिंबा’ में रोहित शेट्टी के सिंघम और गोलमाल सिरीजों का पूरा मसाला मौजूद है, तो अस्सी के दशक की फिल्मों और सलमान खान के ‘दबंग’ की पूरी खुराक भी है। अविश्वसनीय एक्शन दृश्य हैं, नाच-गाना और हंसने-हंसाने का इंतजाम है, यानी पूरा मनोरंजन। चूंकि यह फिल्म तेलुगू फिल्म ‘टेंपर’ पर आधारित है, तो आप अंदाजा लगा सकते हैं कि दक्षिण भारतीय लोकप्रिय फिल्मों के वे सब तत्व यहां होंगे। ‘टेंपर’ भी बहुत कामयाब रही थी। जिस तरह से अपनी तमाम खूबियों को रोहित शेट्टी ने इस फिल्म में जमा किया है, उसकी तारीफ होनी चाहिए। यह कहना गलत नहीं होगा कि ‘सिंबा’ उनकी अब तक की सबसे अच्छी फिल्म है तथा मुख्य कलाकारों ने भी अपनी पूरी ऊर्जा झोंक दी है। वैसे फिल्म का नायक पुलिसिया पहले भ्रष्ट होता है, फिर बलात्कारियों से बदला लेने की ठान लेता है, पर यह फिल्म कोई सामाजिक मुद्दा उठाने या सिनेमाई कलात्मकता का पालन करने का दावा नहीं करती है। यह छुट्टियों में विशुद्ध मनोरंजन का मौका है और इसी लिहाज से इसे देखा जाना चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here