विनय के पाठक

20 POSTS0 COMMENTS
रांची विश्वविद्यालय से स्नातक। वर्ष 1988 में रांची में ही फील्ड रिपोर्टर के रूप में रांची एक्सप्रेस से जुड़े। उसके बाद साप्ताहिक रविवार, प्रभात खबर, सेंटिनल, पांचजन्य, राजस्थान पत्रिका, टेलीग्राफ, इकोनॉमिक्स टाइम्स, अमर उजाला, बीएजी फिल्म्स, न्यूज 24, इंडिया टीवी, जी न्यूज जैसी संस्थाओं के लिए उप संपादक से लेकर विशेष संवाददाता, सहायक फीचर एडिटर, समन्वय संपादक, एक्जक्यूटिव प्रोड्यूसर जैसे पदों पर कार्य कर चुके हैं। टीवी की दुनिया में ‘पोलखोल’ और ‘सनसनी’ जैसे कार्यक्रमों का भी प्रोडक्शन किया है।

अब कंगाल होगा पाक

आर्थिक मोर्चे पर पाकिस्तान की घेराबंदी हो गई है। उससे एमएफएन दर्जा छीनने के साथ ही उसे टेरर फंडिंग के आरोप में एफएटीएफ और यूरोपीय कमीशन की ब्लैक लिस्ट में लाने की भी कोशिश हो रही है। ताकि पाकिस्तान को किसी भी देश से आर्थिक मदद न मिल सके। पुलवामा...

मौद्रिक नीति से मिले विकास के संकेत

मौद्रिक नीति में लोगों का ध्यान ब्याज दर में कमी या वृद्धि की ओर ही टिका रहता है। लेकिन इस बार की मौद्रिक नीति न केवल ब्याज दर में कमी के कारण उल्लेखनीय है, बल्कि आरबीआई के कई बड़े फैसलों ने भी इसकी महत्ता बढ़ा दी है। भारतीय रिजर्व बैंक...

शिकंजे में वाड्रा

आर्थिक अपराध के मामले में रॉबर्ट वाड्रा का गला बुरी तरह से फंस गया है। प्रवर्तन निदेशालय ने जांच के क्रम में मिले दस्तावेजों के आधार पर शिकंजा कस दिया है। दूसरी ओर कांग्रेस इस मामले को लेकर बैकफुट पर आने की जगह इसका भी राजनीतिक लाभ उठाने की...

संतुलित और सराहनीय बजट

जैसी अपेक्षा की जा रही थी, अंतरिम बजट काफी हद तक वैसा ही रहा। केंद्र की मोदी सरकार ने अपने अंतरिम बजट में जिस संतुलन का परिचय दिया है, उसे सराहनीय कहा जाना चाहिए। समाज के हर वर्ग को केंद्र से राहत के अपेक्षा थी। पड़ोसी चुनौतियों के कारण...

तेल की तेज होती तपिश

पेट्रोल और डीजल की कीमत में कुछ दिनों की नरमी के बाद एक बार फिर तेजी आने लगी है। कच्चे तेल की अंतरराष्ट्रीय बाजार में उछाल भारत के लिए बड़ी चुनौती बन गई है। इसका असर देश की विकास दर पर भी नकारात्मक रूप से पड़ सकता है। कु छ...

अर्थव्यवस्था में उछाल के संकेत

कें द्रीय सांख्यिकी कार्यालय (सीएसओ) की ओर से अच्छी खबर आयी है। सीएसओ ने चालू वित्त वर्ष के लिए जीडीपी के पहले अग्रिम अनुमान में देश की जीडीपी विकास दर के 7.2 फीसदी रहने का आकलन किया है। विकास दर का यह आंकड़ा पिछले तीन साल में सर्वाधिक है।...

बैंकों की सेहत में सुधार

रिजर्व बैंक ने माना है कि बैंकों की वित्तीय स्थिति में लगातार सुधार हो रहा है। इसके कारण एनपीए में गिरावट दर्ज की गई है। उम्मीद की जा रही है कि मार्च 2019 तक 70 हजार करोड़ रुपये के एनपीए की और वसूली हो सकती है। नए साल की शुरुआत...

समग्र आर्थिक रणनीति पर चिंतन

रिजर्व बैंक के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन सहित देश के 13 प्रमुख अर्थशास्त्रियों ने आदर्श आर्थिक रणनीति का जो सुझाव दिया है, उसमें कई बातें काफी महत्वपूर्ण हैं। देश के 13 वरिष्ठ अर्थशास्त्रियों ने अपने आदर्श आर्थिक सुझावों में किसान कर्जमाफी का खुल कर विरोध किया है। अन्य आर्थिक मुद्दों...

झटकों से उबरी अर्थव्यवस्था

भारत को आर्थिक मोर्चे पर साल 2018 में लगातार झटकों का सामना करना पड़ा। इस साल भारतीय अर्थव्यवस्था ने जहां लंबी छलांग लगायी, वहीं रुपये की गिरती कीमत और कच्चे तेल की कीमत में आयी उछाल ने देश की अर्थव्यवस्था को लगातार तनाव में बनाये रखा। आर्थिक अपराध के...

ग्रोथ रेट पर विवाद

कांग्रेस की अगुवाई वाले यूपीए सरकार के कार्यकाल के दौरान जीडीपी के संशोधित आंकड़े जारी होने के बाद से ही विवाद की स्थिति बनी हुई है। विवाद की चपेट में केंद्रीय सांख्यिकी कार्यालय (सीएसओ) और नीति आयोग भी आ गये हैं। जीडीपी की बैक सीरीज के जो आंकड़े जारी...