आर. के. सिन्हा

8 POSTS0 COMMENTS
श्री सिन्हा ने अपने कैरियर की शुरुआत पत्रकार के रूप में की। खोजी पत्रकार की उन्हें ख्याती मिली। इन दिनों वे राज्यसभा सांसद एवं हिन्दुस्थान समाचार बहुभाषीय न्यूज एजेंसी के अध्यक्ष हैं। सिक्योरिटी एंड इंटेलीजेंस सर्विसेज के संस्थापक होने के साथ-साथ वे अनेक सामाजिक और कल्याणकारी संस्थाओं के भी अध्यक्ष हैं।

नमाज, मुसलमान और धर्मनिरपेक्षता

बिना अनुमति पार्क में नमाज पढ़ने पर रोक लगाए जाने की बात को लेकर कई लोग हाय-तौबा मचा रहे हैं। ये लोग इस बात को भूल जाते हैं कि भारत निर्विवाद रूप से एक ऐसा देश है, जहां अल्पसंख्यकों को अपनी धार्मिक गतिविधियों के लिए जरूरत से ज्यादा छूट...

हार से जगी बीजेपी देगी लोकसभा में टक्कर

मध्य प्रदेश, छतीसगढ़ और राजस्थान विधानसभा चुनावों के नतीजों का पूरे देश में गहन पोस्टमार्टम हो रहा है। प्रिंट मीडिया, इलेक्ट्रॉनिक चैनलों से लेकर सोशल मीडिया के महारथियों को काम मिल गया है। कहने वाले कह रहे हैं भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) की पराजय आगामी लोकसभा चुनाव के संकेत...

अब हत्यारा कहो सज्जन को

आखिर चौंतीस साल के लंबे, थकान भरे इंतजार और निराशाभरी कानूनी लड़ाई लड़ने के बाद 1984 के सिख विरोधी दंगों के मामले में दिल्ली हाईकोर्ट ने कांग्रेस के एक बड़े नेता सज्जन कुमार को उम्रकैद की सजा सुनायी है। सज्जन के अलावा उनके सहयोगी रहे तीन अन्य दोषियों को...

कौन काबू करेगा पागल भीड़ पर!

बुलंदशहर में भीड़ की हिंसा ने देश भर को स्तब्ध करके रख दिया है। देश की राजधानी दिल्ली में भी कुछ ही समय के दौरान जानलेवा भीड़ ने दो लोगों को अलग- अलग घटनाओं में पीट-पीट कर मौत के घाट उतार दिया। अभागे मृतकों पर छोटी-मोटी चोरी करने के...

हवा से बातें करते लखनऊ, पटना, रांची

आप दिल्ली, मुंबई या बेंगलुरु जैसे महानगरों की तो बात ही छोडि़ए, अब तो स्थिति यह है कि छोटे और मझोले, दूसरी और तीसरी श्रेणी के शहरों के हवाई अड्डों के अंदर-बाहर भी मुसाफिरों की भारी भीड़ लगी रहती है। प्रतीक्षालयों में बैठना तो दूर, खड़े होने की जगह...

जलियांवाला बाग कांड पर क्यों चुप रहे थे इकबाल?

शायर मोहम्मद इकबाल को महिमामंडित करने का रिवाज काफी अर्से से चलाया जा रहा है। ज्ञान दिया जाता है कि उन्होंने सारे जहां से अच्छा हिन्दुस्तान हमारा जैसा अमर तराना लिखा था। हर रामनवमी के मौके पर यह भी बताने की कोशिश की जाती है कि उन्होंने राम पर...

लालच ने पहुंचाया जेल

कोई नहीं कहता कि ईमानदारी से, मेहनत से कोई भी काम करके पैसा कमाना गलत है। आप जितना मर्जी चाहें, पैसा कमाएं। सरकार को या किसी को भी इससे कोई आपत्ति नहीं है। पर जल्दी-जल्दी येन-केन-प्रकारेण पैसा कमाने की फिराक में अपराधी बन जाना या अनैतिक हथकंडे...

किसके इशारे पर सीबीआई में मची उथल-पुथल

नि श्चित रूप से केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) के दो शिखर अफसरों के बीच कुत्ते-बिल्ली की तरह एक दूसरे पर सरेआम आक्रमण करने से देश की प्रमुख जांच एजेंसी सीबीआई की छवि तार-तार हो गई है। अगर इनमें आपस में कोई विवाद और टकराव के बिन्दु थे, तब भी...