रामबहादुर राय

3 POSTS0 COMMENTS

प्रयागराज कुंभ जैसा देखा और सुना

प्रयाग पहले भी था। पर पहली बार वह अपने नाम को सार्थक कर पा रहा है। प्रयागराज का चेहरा बदला हुआ है। उसमें चमक है। इन दिनों उसमें स्वर है। लय है और संगीत है। जिसके लिए प्रयागराज जाना जाता है। कुछ साल पहले जो यहां आया होगा वह...

ममता की तमाशा राजनीति

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी तब तक बंगाल में धरने पर बैठी रहीं जब तक सुप्रीम कोर्ट ने चपत नहीं लगा दी। लेकिन हैरानी की बात है कि सुप्रीम कोर्ट की इस करारी चपत को वे अपनी जीत बता रही हैं। ऐसी हरकत के लिए एक ही शब्द है वह है...

होता रहे संवाद

नागपुर में ही जवाब दूंगा।’ प्रणब मुखर्जी ने अपनी आलोचनाओं और बिन मांगी सलाहों के जवाब में यही कहा था। जैसा कहा, वैसा किया। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का निमंत्रण वे स्वीकार करेंगे इसकी आशा जिन लोगों ने नहीं की थी वे चौंके। आपे से बाहर हुए। उन पर सवालों...