प्रतिभा कुशवाहा

21 POSTS0 COMMENTS
जीवन में स्वतंत्रता और उत्सुकता के लिए पत्रकारिता का रास्ता चुना। हिन्दी साहित्य की प्रतिष्ठित पत्रिका ‘पाखी’ से की गई शुरुआत ने पत्रकारिता के क्षेत्र में बेहतर मार्ग दिखाया। काफी उतार-चढ़ाव के बाद भी पत्रकारिता की यात्रा अनवरत जारी। फिलहाल हिन्दुस्थान समाचार समूह की पत्रिका ‘युगवार्ता’ साप्ताहिक के कॉपी संपादक हैं।

हमारी आधी सीटें कहां हैं?

देश की राजनीति में जहां महिलाओं के 33 फीसदी सीटों पर आरक्षण की बात न बन पा रही हो, वहां लोकसभा और विधानसभाओं में आधी सीटों पर महिला दावेदारी किसी परिहास से कम नहीं है। फिर भी, देश की आधी आबादी को राजनीति में अपनी आधी हिस्सेदारी क्यों चाहिए? इस...

जिताऊ उम्मीदवार नहीं होती महिलाएं?

कई अध्ययन बताते हैं कि अच्छे काम के बावजूद महिलाओं को राजनीतिक दल टिकट नहीं देते हैं। अब नवीन पटनायक और ममता बनर्जी ने जो अच्छी शुरूआत की है, उससे खासतौर पर राष्ट्रीय दल प्रेरणा ले सकते हैं। र विवार, 10 मार्च को ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने एक...

विरासत से बेदखल रहतीं बेटिया

कानून हक देता है, समाज उसे अनदेखा कैसे कर देता है, यह बेटियों को मिले उत्तराधिकार के अधिकार के संदर्भ में देखा जा सकता है। समाज आज भी बेटियों को घर की विरासत सौंपने को तैयार नहीं है। एक तरफ सामाजिक मान्यताएं और दूसरी तरफ कानूनी बाध्यताएं। दोनों समयसमय पर...

यातनाओं के ‘शेल्टर होम’

साल खतम होते-होते महिलाओं के लिए बने शेल्टर होम्स के संबंध में एक महत्वपूर्ण खबर आई। ये ऐसी खबर है जो हमें अधिक चौंकाती नहीं है, बल्कि इसके उलट घटता, तो यह खबर कहीं अधिक चौंकाती। पिछले दिनों देश में मुज्ज़फरपुर और देवरिया के आश्रय गृहों की घटना ने लोगों...

अकेले जूझतीं एकल महिलाएं

वैसे तो हमारी सामाजिक और धार्मिक व्यवस्थाएं यही हैं कि किसी भी स्त्री को एकल जीवन न जीना पड़े। फिर भी कुछ महिलाएं आजीवन अविवाहित रह जाती हैं, कुछ शादी ही नहीं करती हैं। कुछ महिलाएं शादी के बाद छोड़ दी जाती हैं तलाकशुदा हो जाती हैं। कुछ महिलाओं...

उड़ान भरने से कौन रोके हमें!

हमेशा से सामान्य मानसिकता महिलाओं को जोखिम वाले कामों के लिए अयोग्य ठहराती रही है। इसके बावजूद महिलाएं गाहे-बगाहे उन सभी कामों में अपने हाथ आजमाती रही हैं, जो उनके लिए निषेध रहे हैं। इसी तरह का एक काम है जहाज उड़ाना। कोई भी वाहन चलाना तो वैसे ही...

कैसे रुके कार्यस्थलों में यौन शोषण

मीटू पर बात अभी थमी नहीं है। जहां एक ओर मीटू के आरोपियों पर अपने स्तर पर कार्यवाहियां हो रही हैं, वहीं कार्यस्थलों पर महिलाओं के यौन शोषण और दूसरे प्रकार के शोषण पर भी बहस जारी है। यह हो भी क्यों नहीं, क्योंकि कार्यस् थल पर...

कुम्हलाती जीवन संध्या

4अक्टूबर 2017 को अलीगंज (लखनऊ) में 75 साल की बुजुर्ग औरत ने पुलिस में आरोप दर्ज कराया कि कि उसके चार बेट-बहू में से कोई भी उसे रखने को तैयार नहीं। 12 अक्टूबर 2017 को इंदौर के समंदर सिंह ने आरोप दर्ज कराया कि उनकी पत्नी, बहू, बेटे और परिजनों ने...

तनुश्री के ट्रायल से पहले

नो एक शब्द ही नहीं, अपने आप में पूरा वाक्य है योरऑनर। इसे किसी तर्क, स्पष्टीकरण या व्याख्या की जरूरत नहीं है। ‘न’ का मतलब ‘न’ ही होता है योरऑनर। ’‘न मैं नाना पाटेकर हूं और न तनुश्री, तो मैं आपके सवाल का जवाब कैसे दे सकता हूं।’ ऊपर लिखी यह दोनों लाइनें फिल्म अभिनेता अमिताभ बच्चन ने बोली...

यौन अपराधियों की तैयार होगी कुंडली

महिलाओं की सुरक्षा एक अहम मामला है। मामला अहम इसलिए भी है क्योंकि देश में महिलाओं, किशोरियों और बच्चियों के खिलाफ अपराधों में किसी भी स्तर पर कमी नहीं आई है। इसी बात को ध्यान में रखते हुए पिछले दिनों एक महत्वपूर्ण कदम उठाया गया। इसकी काफी समय से चर्चा...