प्रतिभा कुशवाहा

2 POSTS0 COMMENTS

उड़ान भरने से कौन रोके हमें!

हमेशा से सामान्य मानसिकता महिलाओं को जोखिम वाले कामों के लिए अयोग्य ठहराती रही है। इसके बावजूद महिलाएं गाहे-बगाहे उन सभी कामों में अपने हाथ आजमाती रही हैं, जो उनके लिए निषेध रहे हैं। इसी तरह का एक काम है जहाज उड़ाना। कोई भी वाहन चलाना तो वैसे ही...

कैसे रुके कार्यस्थलों में यौन शोषण

मीटू पर बात अभी थमी नहीं है। जहां एक ओर मीटू के आरोपियों पर अपने स्तर पर कार्यवाहियां हो रही हैं, वहीं कार्यस्थलों पर महिलाओं के यौन शोषण और दूसरे प्रकार के शोषण पर भी बहस जारी है। यह हो भी क्यों नहीं, क्योंकि कार्यस् थल पर...