विश्व की सबसे बड़ी बुद्ध मूर्ति चार महीने की लंबी जांच-परख से गुजरेगी। मूर्ति की मरम्मत के लिए जारी कवायद के तहत मौके पर जाकर जांच की जाएगी। यह प्रतिमा चीन के दक्षिण-पश्चिमी सिचुआन प्रांत में लेशान शहर के बाहरी हिस्से में स्थित है। 71 मीटर ऊंची प्रतिमा की छाती और पेट वाले हिस्से में दरार आ गई है। कहीं-कहीं यह टूट भी गई है। गौरतलब है कि बुद्ध की इस विशालकाय प्रतिमा को बनाने में लगभग 90 साल से अधिक का समय लगा था। इस प्रतिमा को बनाने की शुरुआत तांग वंश (618-907) के शासन के दौरान वर्ष 713 में हुई थी। यह प्रतिमा यूनेस्को द्वारा विश्व सांस्कृतिक धरोहर घोषित की जा चुकी है। आठ अक्टूबर से शुरू होने जा रही जांच-परख की प्रक्रिया के दौरान मूर्ति का प्रमुख हिस्सा ढक दिया जाएगा। दर्जनों विशेषज्ञों की निगरानी में मूर्ति की जांच होगी। इसमें 3डी लेजर स्कैनिंग, इंफ्रारेड थर्मल इमेजिंग जैसी तकनीक का प्रयोग होगा। इसके साथ ही ड्रोन से हवाई सर्वेक्षण भी किया जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here