संघ लोक सेवा आयोग (यूपीएससी) ने प्रतिभागियों के लिए एक बड़ी घोषणा की है। यूपीएससी ने उम्मीदवारों को परीक्षा से नाम वापस लेने की अनुमति दे दी है। इससे यूपीएससी के साथ-साथ उम्मीदवारों को भी फायदा होगा। गौरतलब है कि सिविल सेवा परीक्षा के लिए फॉर्म भरने वालों की संख्या लगभग 10 लाख होती है। फॉर्म भरने वाले प्रतिभागियों में से सिर्फ पांच लाख के करीब ही परीक्षा देते हैं। यदि पहले से आयोग को गंभीर उम्मीदवारों का पता चल जाएगा तो उसे भी सेंटर अलॉट करवाने, पेपर ंिप्रट करवाने इत्यादि में सहूलियत होगी। इससे आयोग उम्मीदवारों को बेहतर सुविधा प्रदान कर सकेगा। वहीं फॉर्म भरने के बाद असमंजस की स्थिति वाले प्रतिभागियों को भी इससे मानसिक राहत मिलेगी। आयोग की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि यह व्यवस्था इंजीनियरिंग सेवा परीक्षा 2019 से शुरू होगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here