संयुक्त राष्ट्र के खाद्य और कृषि संगठन (एफएओ), और संयुक्त राष्ट्र विश्व खाद्य कार्यक्रम (डब्ल्यूएफपी) ने संयुक्त रूप से खाद्य संकट पर वैश्विक रिपोर्ट 2019 जारी की है। इसके मुताबिक साल 2018 में 53 देशों में लगभग 113 मिलियन (11.3 करोड़) लोगों ने अत्यधिक खाद्य संकट का सामना किया। हालांकि यह आंकड़ा 2017 के 124 मिलियन के आंकड़े से थोड़ा कम है। खाद्य संकटों का सामना करने वाले लोगों की संख्या पिछले तीन वर्षों में 100 मिलियन से अधिक रही है,और प्रभावित देशों की संख्या बढ़ी है।
आज खाद्य असुरक्षा एक वैश्विक चुनौती बन गई है। इसके अलावा, अन्य 42 देशों में अतिरिक्त 143 मिलियन लोग तीव्र भूख का सामना करने से सिर्फ एक कदम दूर हैं। अत्यधिक भूख का सामना करने वालों में से लगभग दो-तिहाई सिर्फ 8 देशों में हैं- अफगानिस्तान, कांगो लोकतांत्रिक गणराज्य, इथियोपिया, नाइजीरिया, दक्षिण सूडान, सूडान, सीरिया और यमन। जलवायु और प्राकृतिक आपदाओं ने 2018 में 29 मिलियन लोगों को भी तीव्र खाद्य असुरक्षा में धकेल दिया। संघर्ष, अस्थिरता, जलवायु के झटकों का प्रभाव बहुत हद तक इस स्थिति के लिए जिम्मेदार है। एफएओ की सबसे हालिया स्टेट आॅफ फूड सिक्योरिटी एंड न्यूट्रिशन रिपोर्ट, सितंबर 2018 अनुसार इस ग्रह पर 821 मिलियन लोग भूखे रह रहे हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here