काफी लंबे इंतजार के बाद आखिरकार पहले संगीत संग्रहालय की स्थापना का का मार्ग प्रशस्त हो गया है। तमिलनाडु ने थिरुवैयारू में केंद्र सरकार के सहयोग से देश का पहला संगीत संग्रहालय स्थापित करने की घोषणा की है। थिरुवैयारु संत त्यागराज का जन्मस्थल है। वे कर्नाटक संगीत की त्रिनेत्र या त्रिमूर्तियों में से एक हैं। त्रिमूर्ति के अन्य दो संत मुथुस्वामी दीक्षितार और श्यामा शास्त्री हैं। संत त्यागराज कर्नाटक संगीत के प्रसिद्ध संगीतकार थे। हजारों भक्ति रचनाओं के रचनाकार त्यागराज की ज्यादातर रचनाएं तेलुगु में हैं। जिनमें भगवान राम की प्रशंसा है। वहीं कर्नाटक संगीत के त्रिनेत्र के दूसरे संत मुथुस्वामी दीक्षितार भी दक्षिण भारतीय कवि और संगीतकार थे। इनकी रचनाएं मुख्य रूप से संस्कृत में हैं और वे हिंदू देवताओं और मंदिरों से संबंधित हैं। कर्नाटक संगीत के त्रिनेत्र के तीसरे संत श्यामा शास्त्री हैं। वह कर्नाटक संगीत के त्रिनेत्र में सबसे पुराने थे। इनकी अधिकांश रचनाओं में देवी कामाक्षी की प्रशंसा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here